Tag Archives: fifth month

प्रेगनेंसी का छठा महीना – Pregnancy sixth month in Hindi

गर्भावस्था का छठा महीना, दूसरी तिमाही का आखिरी महीना होता है। अब तक आपका पेट काफी बड़ा हो जाता है साथ ही आपके शरीर के अन्य अंगों में भी थोड़ी बहुत वृद्धि हो जाती है। जैसे जैसे आपके बच्चे का विकास होता है, आपका शरीर भी बढ़ता जाता है।

गर्भावस्था के छठे महीने में बच्चे का विकास – Baby growth during sixth month of pregnancy in Hindi

बच्चा छठे महीने में एक फुट लम्बा और करीब 680 ग्राम का हो जाता है। इस महीने के अंत तक वो लगभग पूरी तरह से बन चुका होता है हालांकि, उसके अंग अभी भी विकसित हो रहे होते हैं और फेफड़े अभी तक स्वयं कार्य करने के लिए विकसित नहीं हुए हैं।

बच्चे का सिर इस समय लगभग उसके शरीर के अनुपात का होता है और उसका चेहरा पूरी तरह से विकसित हो जाता है। हालाँकि बच्चे की आँखें अभी भी बंद होती हैं, पर वह प्रकाश और अंधेरे को महसूस कर सकता है।

बच्चे की त्वचा अब पारदर्शी नहीं रहती क्योंकि उसको गर्म रखने के लिए उसका शरीर फैट का उत्पादन करना शुरू कर देता है। उसकी मांसपेशियां मजबूत होने लगती हैं, जिसका आपको तब अनुभव होगा जब वो किक मारेगा या कुलबुलायेगा। उसका शरीर, सफेद रक्त कोशिकाएं बना रहा होता है जो रोगों से लड़ने में उसकी मदद करती हैं।

प्रेग्नेंसी के छठे महीने में शरीर में होने वाले बदलाव – Changes in body during 6th month of pregnancy in Hindi

अब तक आपको पीठ दर्द, पैरों और टांगों में ऐंठन की शायद आदत हो गयी होगी। यदि आप अभी तक गर्भावस्था तकिया या मैटरनिटी सपोर्ट बेल्ट (Maternity support belt) के बिना काम चला रहीं हैं तो अब उसे खरीद लें क्योंकि अब अगली तिमाही में असुविधाएं और भी ज्यादा महसूस हो सकती हैं।

आप टखनों और पैरों में सूजन का अनुभव भी कर सकती हैं। इस महीने से आप यह भी गौर करेंगी कि पीले तरल का योनि स्राव हो रहा है, जिसे ल्यूकोरिया (Leukorrhea) कहते हैं। अपच, सीने में जलन और बवासीर आम समस्याएं भी प्रमुख हैं।

आपका गर्भाशय, मूत्राशय पर बिना दबाव डाले ऊपर की ओर बढ़ रहा होता है और इसलिए संभवतः आप अभी बाथरूम का ज्यादा उपयोग नहीं करती हैं। आप ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन (Braxton Hicks contractions) महसूस कर सकती हैं। ये छोटे छोटे संकुचन, आपके शरीर को प्रसव के समय के लिए तैयार करने में मदद करते हैं।

छठे महीने की गर्भावस्था के बारे में जानने योग्य बातें – Things to know about sixth month of pregnancy in Hindi

अब तक आपका वज़न लगभग 5-7 किलो बढ़ चुका होता है। स्वस्थ गर्भावस्था आहार खाने की कोशिश करें, प्रीनेटल विटामिन लेती रहें और खुद को हाइड्रेटेड रखें।

यदि आप बवासीर से पीड़ित हैं, तो फाइबर युक्त आहार खाएं जो गर्भावस्था में कब्ज होने से बचाते हैं। अब आप अपने पैरों, स्तनों और पेट पर खिंचाव के निशान देख सकती हैं। बच्चे के जन्म के बाद ये सब हल्के पड़ जाते हैं, लेकिन पूरी तरह से नहीं जाते। अगर आपके शरीर पर खिंचाव के निशान नहीं हैं, तो वो प्रेग्नेंसी के आखिरी महीनों में दिख सकते हैं।

आप बच्चे के कपड़े, उसका डाइपर, पालना आदि खरीदना शुरु कर दीजिये क्योंकि जैसे जैसे समय बढ़ता जायेगा इन सारे कामों को करने के लिए आपकी ऊर्जा कम हो जाएगी। इसलिए बच्चे के सामान की शॉपिंग लिस्ट बनाना शुरू कर दीजिये।

प्रेगनेंसी का पांचवा महीना – Pregnancy fifth month in Hindi

बच्चे का तेज़ी से विकास होने के कारण आप गर्भावस्था के पांचवे महीने में थोड़े ज्यादा दर्द और पीड़ा महसूस कर सकती हैं और यह कोई आश्चर्य की बात भी नहीं है। आपका पेट भी बच्चे को विकास करने देने के लिए बढ़ जायेगा और पहले से अधिक दिखने लगेगा।

इस महीने के अंत तक, आप आधी गर्भावस्था पार कर चुकी होती हैं। शायद इस उत्साह की ही वजह से, आपकी ऊर्जा पहली तिमाही से अधिक होती है और आपके चेहरे पर ‘प्रेग्नेंसी ग्लो’ आने लगता है।

गर्भावस्था के पांचवे महीने में बच्चे का विकास – Baby growth during fifth month of pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के पांचवे महीने के अंत तक आपका बच्चा 8-12 इंच लंबा होगा और करीब 453 ग्राम उसका वज़न हो सकता है। बच्चा वर्निक्स (Vernix) नामक मोटे से सफेद पदार्थ का उत्पादन करता है जो उसके पैदा होने तक, एम्नियोटिक द्रव (Amniotic fluid) से उसकी पतली त्वचा की रक्षा के लिए उसके शरीर को ढकने करने का काम करता है।

बच्चे की हड्डियां और मासपेशियां अब पूरी तरह से विकसित हो जायेंगी इसके साथ ही वो अंगड़ाई लेना, जम्हाई लेना और तरह तरह के मुंह बनाना भी सीख जाता है। वह किक भी मार सकता है और कई गतिविधियां जैसे करवट लेना, हिलना डुलना आदि भी शुरु कर देता है। इन हरकतों को आप  थोड़ा थोड़ा महसूस भी कर सकती हैं।

वो नियमित रूप से सोने जागने भी लगता है और इसी महीने में उसकी उंगलियों के निशान (Fingerprints) भी विकसित होते हैं। अगर गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है, तो उसके अंडकोष (Testicles) इसी महीने में विकसित होते हैं और यदि वो लड़की है, तो इस महीने में उसका गर्भाशय पूरी तरह से विकसित हो जाता है और उसके अंडाशय में अंडे भी आ जाते हैं।

प्रेग्नेंसी के पांचवे महीने में शरीर में होने वाले बदलाव – Changes in body during 5th month of pregnancy in Hindi

इस महीने में आपका गर्भाशय, खरबूजे के आकार का हो जाता है । आपके पेट में लिगामेन्ट (Ligaments; हड्डियों को जोड़ने वाले संयोजी या रेशेदार ऊतक) खिंचने लगते हैं और इनकी वजह से पड़ने वाले खिंचाव के निशान आपको अब दिखाई देने लगेंगे।

अगर आपने अभी तक कोई स्ट्रेच मार्क्स क्रीम लगानी शुरु नहीं की है तो अब से उसका उपयोग करना शुरु कर दें। पेट में दर्द के अलावा, आप पैरों में सूजन, ऐंठन और पीठ दर्द भी महसूस कर सकती हैं। इन सारी असुविधाओं से बचने या दूर करने के लिए आप प्रेग्नेंसी तकिया का उपयोग कर सकती हैं। जैसे जैसे आपकी गर्भावस्था बढ़ेगी, ये असुविधाएं आपको और अधिक परेशान करेंगी। एक गर्भावस्था तकिया आपको गर्भावस्था के बाकी के समय में बेहतर और कम दर्द महसूस करने में मदद करेगी।

इस महीने से आपको पहले से अधिक भूख लग सकती है। कुछ महिलाएं सब कुछ खाने में समर्थ होती हैं जबकि कुछ को एक विशेष प्रकार का आहार खाने का मन करता है जैसे केवल खट्टा या मीठा या चटपटा आदि।

पांचवे महीने की गर्भावस्था के बारे में टिप्स – Things to know about fifth month of pregnancy in Hindi

भले ही आपको इस महीने अधिक भूख लगती है और यह महत्वपूर्ण भी है लेकिन भूल कर भी आप दो लोगों का खाना, अस्वास्थ्यकर स्नैक या कोई अन्य अनावश्यक चीज़ें न खाएं। बेशक, प्रेग्नेंसी के दौरान आपका वजन बढ़ता है, लेकिन आवश्यकता से अधिक वजन आपके और आपके बच्चे, दोनों के लिए हानिकारक हो सकता है।

यदि आपके पैरों में दर्द और ऐंठन लगातार हो रही है, तो प्रीनेटल कैल्शियम-मैग्नीशियम सप्प्लिमेंट्स खाने से उनमें आराम मिल सकता है।

अल्ट्रासाउंड में अब बच्चे का लिंग भी डॉक्टर को पता चल जाता है लेकिन उसे जानने की कोशिश न करें क्योंकि ऐसा करना भारत में कानूनन जुर्म है और ऐसा करते पकड़े जाने पर जेल भेज दिया जाता है।

अभी भी आपमें योजना बनाने और शॉपिंग करने के लिए काफी ऊर्जा होती है। आप बच्चे के लिए अपना कमरा सजा सकती हैं। लेकिन ध्यान रखिये कि आपको सीढ़ियां नहीं चढ़नी उतरनी हैं इसलिए ऐसे काम दूसरों को ही सौंपें।