अनिद्रा

आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में फिट रहना बहुत ज़रूरी है और फिट रहने के लिए सही खानपान के साथ साथ अच्छी नींद लेना बहुत महत्वपूर्ण है। नींद हमें शारीरिक रूप से रिलैक्स करने में मदद करती है, साथ ही साथ हमारे दिमाग को भी व्यवस्थित करती है इसीलिए यदि आप रात में अच्छी और भरपूर नींद लेते है तो इसका असर आपके पूरे दिन में पड़ता है। आप सारा दिन एनर्जेटिक और फ्रेश फील करते है।

हममें से बहुत से लोग नींद ना आने की समस्या से ग्रसित हैं । नींद ना आने के कई कारण हो सकते है जैसे अनियमित दिनचर्या , सोने जागने का कोई रूटीन न होना , किसी तरह का तनाव होना , खान पान की गलत आदतों की वजह से , कैफीन या अल्कोहल के कारण, किसी ट्रीटमेंट या दवा के कारण।

अनिद्रा का एक बड़ा कारण हमारी गलत लाइफ स्टाइल भी है, जैसे सोने का समय निश्चित ना होना। एक निश्चित समय पर ना सोने से हमारे मस्तिष्क को रिलैक्स करने का समय नहीं मिल पाता। हम सभी जानते है की हमारा मस्तिष्क हमेशा काम करता रहता है और जब हम सोते है तब मस्तिष्क सारे दिन के डाटा को रिस्टोर और व्यवस्थित करता है। इसी वजह से सोने के बाद हमें अच्छा फील होता है और दिमाग अच्छे से काम कर पाता है।

कई बार किसी बात का तनाव या चिंता भी नींद ना आने का कारण होती है। आजकल तनाव होना बहुत आम है लगभग सभी आयुवर्ग में ये समस्या देखने को मिलती है बच्चो से लेकर बड़ो तक, सभी को किसी न किसी बात की चिंता रहती ही है पर अगर ये नींद पर असर डालने लगे तो इसे गंभीर माना जाना चाहिए।

खान पान की गलत आदतें भी कई बार अनिद्रा का कारण होती है। देर रात डिनर करना ,सोने के समय चाय कॉफ़ी का सेवन करना ।

खाना खाने के बाद हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम सक्रीय हो जाता है और इस वजह से ब्रेन को नींद के लिए तैयार करने में देरी होती है।
इसी प्रकार चाय और कॉफ़ी में पाया जाने वाला कैफीन आपकी नींद में बाधा डाल सकता है। एक अध्ययन में यह भी पाया गया है कि कैफीन आपके बायोलॉजिकल क्लॉक के समय में देरी कर सकता है और इन प्रभावों से आपकी नींद का समय कम हो जाता है।

रात में स्क्रीन टाइम का ज्यादा होना भी अनिद्रा का एक मुख्य कारण है हममें से बहुत से लोगो को देर रात तक टीवी देखना या लैपटॉप में काम करना पसंद होता है इससे भी हमारे मस्तिष्क को जागते रहने के संकेत मिलते है जिससे नींद अच्छी नहीं आती है इसके अलावा देर रात तक मोबाइल में देखना या गेम खेलना भी अनिद्रा को बढ़ाता है।

इन सब बातो के अलावा कुछ मेडिकल कंडीशन्स में भी अनिद्रा की समस्या होने लगती है यदि आप किसी तरह के डिप्रेशन या अवसाद से जूझ रहे है या फिर आप कुछ दवाओं का सेवन कर रहे है तो भी अनिद्रा की समस्या हो सकती है। इस स्थिति में आपको डॉक्टर की सलाह की आवश्यकता होती है।

अब बात करते है कुछ आसान नुस्खों की जिनको अपनाकर आप अनिद्रा से काफी हद तक छुटकारा पा सकते है।

कमरे का तापमान – ख्याल रखें कि कमरे का तापमान सही हो , न तो बहुत अधिक और ना ही कम ,सोने के लिए कमरे का सही तापमान होना आवश्यक है।

आदतों में बदलाव – छोटी छोटी चीज़ो पर गौर करें , सोने से कम से कम 2 घंटे पहले डिनर कर लें । सोने का समय निश्चित करें और रोज उसी समय सोने का प्रयास करें।सोने से पहले गुनगुना दूध पीना भी अनिद्रा को दूर करने में सहायक होता है। सोने से पहले मुमकिन हो तो नहा लें या नहाना संभव न हो तो पैर धोकर सोने जायें ये नींद लाने में सहायक है।

सोते समय किसी भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट जैसे मोबाइल, लैपटॉप को अपने पास न रखे।
मोबाइल को लेके बिस्तर पर ना लेटें इससे भी नींद पर बुरा असर पड़ता है।

हल्का म्यूजिक सुने – वैज्ञानिको ने भी माना है कि हल्का म्यूजिक हमारे दिल दिमाग पर प्रभाव डालता है और नींद न आने पर ये चमत्कार सा असर करता है ।

सुगन्धित वातावरण – नींद न आ रही हो तो कमरे के वातावरण पर ध्यान दें सुगन्धित वातावरण भी अनिद्रा दूर करने में सहायक है ,इसके लिए नेचुरल आयल का यूज़ करें अगरबत्ती का प्रयोग भी एक अच्छा विकल्प है।

इसके अलावा मेडिटेशन और कुछ योग के रोजाना अभ्यास से भी हम अनिद्रा को दूर कर सकते है।