खुश रहने के 10 आसान टिप्स

हम सभी हैप्पी या खुश रहना चाहते है और हमारे अपनों के लिए भी हम हमेशा यही विश करते है की वो लोग भी हमेशा खुश रहें। पर ये भी सच है की आप हर समय हर परिस्थिति में हमेशा खुश नहीं रह पाते।

खुश रहने का क्या अर्थ होता है, जैसे हम किसी चीज़ के बारे में सोचते है या किसी इवेंट के बारे में सोचते हैं की ऐसा हो जाएगा तो हम खुश हो जाएंगे, तो क्या वो होने पर हम हमेशा खुश रहने लगते हैं ? नहीं। हममें से कुछ लोग सोचते है में कार लेलूं तो खुश रहूंगा या वैसा घर लेलूं तो खुश रहूँगा ,पर वास्तव में ऐसा होता नहीं। खुश रहने के लिए किसी ख़ास वजह पर निर्भर रहना ज़रूरी नहीं है।

अब बात करते है की फिर क्या करें। खुश रहना एक तरह से निरंतर किया जाने वाला प्रयास है हमे इस बात के लिए सचेत रहना होगा की मुझे खुश रहना है और इसे कोई परिस्थिति या व्यक्ति बदल नहीं सकता।

  • अपने आप से पूछें की क्या आप खुश हैं

यदि आप अपने बारे में सोचते हैं , तब क्या आप खुद को खुश पाते हैं ? नही। आपकी अपने बारे में धारणा ही आपको रियल में बनाती है।

आज में जियें। हर दिन को भरपूर जियें हमेशा सोचते ना रहें की यदि ऐसा होगा तो में खुश हो जाऊंग। क्यूंकि ऐसा हमेशा ही होता आया है और आगे भी होता रहेगा। आप एक बात के लिए एक बार खुश हो लेंगे पर फिर दूसरा कुछ सोच लेंगे, इसीलिए अपनी ख़ुशी को किसी पर आधारित न करें।

  • खुश रहने के कारणों की तलाश करें

उन बातों और उन कारणों को सोचें जिनसे आपको ख़ुशी मिलती है। इसके लिए उन कारणों लिस्ट बनाएं जो आपके लिए गॉड गिफ्टेड हैं। जिन वजहों के लिए आप खुद को लकी मानते हैं। आप देखेंगे ऐसी बहुत से चीज़े है जिनके लिए आप अपने आपको खुश किस्मत मान सकते हो।

  • खुद को मज़बूत बनायें

यदि आप इस ब्लॉग को पढ़ रहे हैं तो आप अपनी शक्ति और अपनी खुशियों को रियल बनाने की क्षमता रखते हैं। लेकिन यह रातोंरात नहीं होता है और यह केवल कहने से नहीं होता है।

यदि आप अपने आप को कमज़ोर मानते हैं तो ऐसे विचार आपको वाकई कमज़ोर बना देते हैं इन्हे आपको तुरंत बदलना है। यदि आप खुद को सच में खुश रखना चाहते हैं और जैसी लाइफ आपको पसंद है , वैसी बनाना चाहते हैं तो आपको खुद को उस दिशा में बेहतर बनना होगा ,इसे अपनी प्राथमिकता बनाइये और विश्वास कीजिये ये बिलकुल संभव है।

  • हर समय भागते न रहें

हममें से कई लोग मल्टीटास्कर होते हैं यानी एक वक़्त पर कई काम करते रहते हैं। आपको अजीब लगेगा पर यकीन मानिये , ये हैबिट आपको अपने लिए बिलकुल वक़्त नहीं देती। क्यूंकि ऐसे में हमारा सारा फोकस उन कामों पर लगा रहता है जो काम अभी करने बाकी हैं और हम जो कर रहें हैं उस काम की ख़ुशी हम अनुभव ही नहीं कर पाते। इसलिए रोज़ अपने आप को 5 मिनट दीजिये और उन कामों की लिस्ट बनाइये जो उस दिन में करना है और खुद के लिए समय निकालिये।

  • अपनी ज़रूरतों का सम्मान करें

हम सभी के पास कुछ ऐसी चीज़े होती हैं जिनसे हमे संतुष्टि और शान्ति मिलती है और वास्तव में ये हमारी ज़रूरतें होती हैं। जैसे किसी को कुछ समय एकांत पसंद होता है वो उस समय सिर्फ अपने साथ रहना पसंद करते हैं इससे उन्हें मानसिक ख़ुशी मिलती है इसी तरह किसी को कुछ पढ़ना पसंद होता है और अगर वो ऐसा न कर पाएं तो कुछ छूटा या खोया खोया महसूस करने लगते हैं , इस तरह हर किसी की ये ज़रूरत अलग होती है।अपनी ज़रूरतों को समझें और देखे क्या आप उन्हें पूरा कर पा रहे हैं। कभी किसी पार्क में जाकर कुछ समय बैठें बच्चों को खेलते देखें। कभी शाम को टहलें और साफ़ ठंडी हवा को महसूस करें ये सभी अनुभव हमे मानसिक शांति देते हैं।

  • अपनी भी देखभाल करें

हम हमेशा घर फैमिली ऑफिस में इतने व्यस्त रहते हैं की कभी कभी अपने ऊपर ध्यान ही नहीं देते। अपना ख्याल रखना बहुत ज़रूरी होता है, इसके लिए अपनी दिनचर्या में कुछ बातों का ख़ास ख्याल रखें इससे न सिर्फ आपका स्ट्रेस कम होगा बल्कि आप हैप्पी फील करेंगे।

नींद – सात से नौ घंटे की नींद लें। पर्याप्त नींद लेना दिमाग को रिलैक्स करने के लिए बहुत ज़रूरी है। 15 से 30 मिनट पहले उठें। ऐसा करने से आप अपने दिन की सकारात्मक शुरुआत कर पाएंगे।

ग्रीन टी – ग्रीन टी पीने से न केवल आपके तनाव का स्तर कम होगा, बल्कि यह आपको खुश महसूस करने में भी मदद करेगा। इसके साथ ही कुछ फ़ूड आइटम्स ऐसे होते है जो हमारे शरीर में सेरेटोनिन को बढ़ाते है जिससे भी मन खुश रहता है जैसे अखरोट,बादाम हरी पत्तेदार सब्जियां, चीज़, टोफू, कोकोनट या नारियल।

मेडिटेशन – मेडिटेशन /ध्यान करें। जागने पर पांच से दस मिनट के लिए ध्यान करना आसान होता है इस समय फोकस करना भी आसान होता है। अनेक रिसर्च से ये साबित हुआ है की मेडिटेशन या ध्यान , तनाव और चिंता को रोकने में सहायक होता है।

सोशल मीडिया से थोड़ा ब्रेक – जब आप खुश महसूस नहीं कर रहे होते हैं तो स्नैपचैट इंस्टाग्राम या किसी भी सोशल साइट पर चैट करना बहुत आम बात है लेकिन रिसर्च बतातीं हैं की इनका ज़्यादा प्रयोग आपकी मेन्टल हेल्थ के लिए नुक़सानदायक है। इसके बजाये दिमाग बढ़ाने वाले गेम्स खेलना अच्छा ऑप्शन है।

  • कुछ नया सीखें– आगे बढ़ने में ध्यान केंद्रित करने से हम नेगेटिव चीज़ो पर कम ध्यान देने लगते है, जो खुशी को बढ़ावा देता है। कुछ नया सीखना आपके आत्मविश्वास को भी बढ़ाता है।
  • म्यूजिक – जब आप धीमा या इंस्ट्रुमेंटल म्यूजिक सुनते हैं तो यह मस्तिष्क में सेरोटोनिन उत्पादन को बढ़ा सकता है जिससे आप ख़ुशी अनुभव करते हैं. सकारात्मकता यानी पॉज़िटिव दृष्टिकोण के साथ जीवन जीना और दूसरों से अच्छा व्यवहार करने से भी आपके सेरेटोनिन का स्तर बढ़ता है और आप हैप्पी फील करते हैं।
  • प्रकृति के साथ समय बिताना-यदि आप कही बाहर या दूर नहीं जा सकते तो घर में ही कुछ प्लांट्स लगाएं और रोज़ उनकी देखभाल करें और कुछ समय अपने प्लांट्स के साथ बिताएं।
  • डिक्लटर करना । कई बार हम घर या ऑफिस में बहुत सारा वो सामान इकट्ठा करके रखते है जो हमारे काम की नई होती और कभी काम आएंगी सोच के हम उसे फेंकते नहीं है ये सब अव्यवस्था को बढ़ाते है। खुश रहने के लिए हमे अपने घर को साफ़ और व्यवस्थित रखना ज़रूरी है। इससे आपका ब्रेन हैप्पी हॉर्मोन्स को बढ़ाता है।

Published by

healthyme happyme

अगर अच्छा स्वस्थ्य आपकी मंज़िल है तो हम आपके इस सफर में आपके साथी है आप कैसा महसूस कर रहे हैं ये आपके हर दिन पे प्रभाव डालता है तो हम आपके साथ हैं आपके मार्गदर्शन के लिए और आपको प्रोत्साहित करने के लिए। आपका स्वस्थ्य आपके हाथ। HealthyMeHappyMe आपके स्वास्थय और शारीरिक क्षमताओं को और भी बेहतर बनाने के लिए आपकी मदद करता है। View all posts by healthyme happyme

One thought on “खुश रहने के 10 आसान टिप्स”

Leave a Reply